Important Notes regarding Income Tax, TDS and GST

परिपत्र विभिन्न प्रश्नों के लिए

 

आयकर से संबंधित जानकारी:

 

  • वित्त वर्ष 2019-20, अप्रैल-2019 से मार्च-2020 तक ही रहेगा। इसमें कोई बदलाव नहीं है।

 

  • कोरोनावायरस महामारी के कारण, सरकार ने आईटी अधिनियम के Chapter-VIA  के तहत करदाता को अपनी आय में से डिडक्शन का दावा करने के लिए विभिन्न निवेश/भुगतान करने की समय सीमा 31 मार्च, 2020 थी उसको 30 जून, 2020 तक बढ़ा दी हैं। जिसमें धारा 80 सी से लेकर धारा 80जीजीसी (उदाहरण :- एलआईसी, पीपीएफ, एनएससी, मेडिक्लेम, दान आदि) तक शामिल हैं।  करदाता वित्त वर्ष 2019-20 के लिए  डिडक्शन का दावा करने के लिए 30 जून, 2020 तक निवेश / भुगतान कर सकते हें।

 

  • एक विशेष कोष PM CARES FUND कोरोना वायरस के प्रकोप से प्रभावित व्यक्तियों को राहत प्रदान करने के लिए स्थापित किया गया है। इसलिए PM CARES फंड को किया गया दान धारा 80G के तहत 100% डिडक्शन के लिए पात्र होगा। और 30 जून, 2020 तक किया गया दान वित्त वर्ष 2019-20 की आय में डिडक्शन के लिए भी पात्र होगा।

 

  • PAN को आधार से जोड़ने की समय सीमा 31 मार्च, 2020 थी उसको 30 जून, 2020 तक बढ़ा दी हैं।

 

  • वित्त वर्ष 2019-20 के लिए आयकर रिटर्न और टैक्स ऑडिट रिपोर्ट दाखिल करने की समय सीमा में कोई बदलाव नहीं हुआ है।

 

टीडीएस संबंधित जानकारी:

टीडीएस जमा करने की नियत तारीख:

  • मार्च, 2020 में भुगतान या जमा किए गए खर्चों पर काटे गये टीडीएस को जमा करने की नियत तारीख 30 अप्रैल 2020 है। इसमें कोई बदलाव नहीं है।
  • अप्रैल 2020 में भुगतान किए गए खर्चों पर काटे गये टीडीएस को जमा करने की नियत तारीख 07 मई 2020 है। इसमें कोई बदलाव नहीं है।
  • देर से टीडीएस जमा करने पर ब्याज 9% (18% के बजाय) लागू है 30 जून, 2020 तक।

 

टीडीएस के रिटर्न QTR-4 की नियत तारीख

  • वित्त वर्ष 2019-20 की तिमाही (quarter) 4 के लिए टीडीएस रिटर्न दाखिल करने की नियत तारीख 31 मई 2020 है। इसमें कोई बदलाव नहीं है।

 

टीडीएस रिटर्न के लिए फॉर्म 15G / 15h की नियत तारीख

  • COVID-19 संकट के कारण, आयकर विभाग ने आदेश जारी किया है कि, वित्तीय वर्ष 2019-20 के लिए सबमिट किया गया, फॉर्म 15G या फॉर्म 15H, 30.06.2020 तक वैध रहेगा।

 

धारा 206C टीसीएस संबंधित

  • वित्त अधिनियम, 2020 के अनुसार धारा 206C (1G) और 206C (1H) के टीसीएस प्रावधान 1 अप्रैल, 2020 के बजाय 1 अक्टूबर, 2020 से लागू होगा।

जीएसटी संबंधित जानकारी:

जीएसटी ऑडिट :

  • वित्तीय वर्ष 2018-2019 के लिए वार्षिक रिटर्न फ़ाइल करने की समय सीमा 06.2020 तक बढ़ाई गई है।

जीएसटीआर-1 मासिक रिटर्न :

  • GSTR-1 मासिक रिटर्न फरवरी-‘20, मार्च-‘20 और अप्रैल-‘20 फ़ाइल करने की समय सीमा 06.2020 तक बढ़ाई गई है।

 

जीएसटीआर-3 बी मासिक रिटर्न के लिए नियत तारीख:

  1. करदाता जिसका वित्त वर्ष 2018-19 का टर्नओवर 5 करोड़ से अधिक हो
कर अवधि नियत तारीख कोई लेट फीस नहीं, यदि रिटर्न इस तारीख तक या पहले फ़ाइल  कर दो 0% व्याज़, यदि रिटर्न इस तारीख तक या  पहले फ़ाइल  कर दो 9% व्याज़ , यदि रिटर्न इस तारीख से 24 जून, 2020 तक फाइल कर दो   18% व्याज़, यदि रिटर्न इस तारीख से 24 जून, 2020 तक फ़ाइल नहीं किया गया है
फरवरी-‘20 20 मार्च, 2020 24 जून, 2020 4 अप्रैल, 2020 5 अप्रैल, 2020 21 मार्च, 2020
मार्च-‘20 20 अप्रैल, 2020 24 जून, 2020 5 मई, 2020 6 मई, 2020 21 अप्रैल, 2020
*अप्रैल-‘20 20 मई, 2020 24 जून, 2020 4 जून, 2020 5 जून, 2020 21 मई, 2020

* अप्रैल-‘20 – टर्नओवर की सीमा वित्त वर्ष 2019-20 माना जाएगा ।

  1. करदाता जिसका वित्त वर्ष 2018-19 का टर्नओवर5 करोड़ रुपये से अधिक हो लेकिन 5 करोड़ रुपये तक हो
कर अवधि कोई लेट फीस नहीं, यदि तारीख तक फ़ाइल  कर दो 0% व्याज़ (18% के बजाय), इस तारीख तक या  पहले फ़ाइल  कर दो
फरवरी-‘20 29 जून, 2020 29 जून, 2020
मार्च-‘20 29 जून, 2020 29 जून, 2020
*अप्रैल-‘20 30 जून, 2020 30 जून, 2020

* अप्रैल-‘20 – टर्नओवर की सीमा वित्त वर्ष 2019-20 माना जाएगा ।

  1. करदाता जिसका वित्त वर्ष 2018-19 का टर्नओवर 1.5 करोड़ से कम हो
कर अवधि कोई लेट फीस नहीं, यदि तारीख तक फ़ाइल  कर दो 0% व्याज़ (18% के बजाय), इस तारीख तक या  पहले फ़ाइल  कर दो
फरवरी-‘20 30 जून, 2020 30 जून, 2020
मार्च-‘20 3 जुलाई, 2020 3 जुलाई, 2020
*अप्रैल-‘20 6 जुलाई, 2020 6 जुलाई, 2020

* अप्रैल-‘20 – टर्नओवर की सीमा वित्त वर्ष 2019-20 माना जाएगा ।

 

Disclaimer: This article is made available only to give you general information and a general understanding of the law.

Tax Relief Summary

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *